Posts Tagged ‘विश्वामित्र’

किशोर राम(हाइकू रामायण)

मई 16, 2008

सूर्यवंशस्य
चारों भाई महान
कीर्ति-प्रसार॥

अवध-जन
पाकर युवराज
हर्षें अपार॥

विश्वामित्रजी
ऋषि-तपस्वी योगी
वन-आश्रमी॥

किए खंडित
सुबाहू औ’मारीच
तपस्या-यज्ञ॥

विश्वामित्र:

“कोई उपाय?
हे! कौशलाधिराज?
दो युवराज॥”

“बाधाएँ मिटें
राक्षस-वध करें
राम-लछन॥”

दशरथ:

“राम-लछन!!!
बाल कोमल तन !
नयनतारे”

वशिष्ठ आए
नृप शंका हटाए
मुनि हर्षाए॥

युगल भाई
ऋषि संग पठाए
यज्ञ बचाए॥

ताड़का मारी,
निशाचर पछाड़े,
ऋषि सुखारे॥
                                                           ज़ारी…