होली

होली का बहाना
हमें प्यार है उड़ाना
पहल कर दिखाना।
ये रंगी हवाएं
फूलों को झुलाएं
हमें पास बुलाएं
लेतीं हमारी बलाएं
ये मस्ती का भाव
सबको खेलने का चाव
ना आए किसी को ताव
रहे सबका यही ख्वाब।
ना हो कोई उदास
जीवन में निराश
मिलन की हो आस
सब आएं पास-पास।
रंग चढ़े मनपर
ना हो कभी कमतर
चाहेना चढ़े तनपर
पर हो फुहार सब पर।
कोई घर ना बचे
कोई शहर ना रहे
कोई भी ना छूटे
कोई दिल ना टूटे
दिल दिल से मिलें
वैर के पत्ते झड़ें
द्वेष दूर हम करें
रंग राग के भरें।
रंग ऎसा लगे
कि सब रंगमय लगे
कुछ ना अलग दिखे
सब पहचान ही मिटे।
सब जाति के रंग
सब धर्मों के रंग
घोलकर प्यार के कुंड में
मल दो हरेक के मन में
ना रहे कोई भी अलग ढ़ंग में।
रहे मस्त होली के हुड़दंग में
रंग जाएं मानवता के रंग में।

यह कविता ’साहित्यकुंज’ में भी प्रकाशित हो चुकी है।

3 Responses to “होली”

  1. Tarun Says:

    होली की शुभकामनायें, बहुत सही लिखा –

    रहे मस्त होली के हुड़दंग में
    रंग जाएं मानवता के रंग में।

  2. संगीता पुरी Says:

    रहे मस्त होली के हुड़दंग में
    रंग जाएं मानवता के रंग में।
    बहुत सुंदर भावना … अच्‍छी लगी आपकी रचना।

  3. कौतुक Says:

    यह तो पहले से ही प्रकाशित है तो शायद यह टिप्पणी उतना महत्व न रखता हो.

    परन्तु रचना मुझे बहुत अच्छी लगी.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: