सोच लो

00000

बुराई सबके लिए बुराई है फिर उसी राह पर चलना कहाँ की भलाई है। सामना करने की ताक़त समझ बढ़ाने और एकता बनाने से मिलती है न कि पतनशील रास्ते जाने से।

टैग:

5 Responses to “सोच लो”

  1. mehek Says:

    bilkul sahi kaha

  2. premlata pandey Says:

    कुश! क्या कहूँ? खुश रहें।
    रंजनाजी और संगीताजी आपकी मेहरबानी।

  3. कुश Says:

    Post of the Day!!

  4. ranju Says:

    बहुत सही …

  5. संगीता पुरी Says:

    सही है…..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: