दर्द में कुछ बात है!

कामवाली आया कभी सबसे एक सा व्यवहार नहीं करती है। जो मालकिन उसे जिस रुप में फ़ायदेबंद लगती है उसी हिसाब से वह उसके काम में रुचि लेती है। जिससे ज़्यादा फ़ायदा होता है उसका काम चुपके से छुट्टी वाले दिन भी कर जातीं हैं। जो मालकिन काम से काम रखती हैं, न कोई इधर-उधर की बात करतीं है और न अन्य किसी भी रुप में लाभ की स्रोत लगती है, उसका काम ये आयाएँ इल्लत काटने के समान करतीं हैं।
कोई चाय के साथ-रस्क के दो पीस पकड़ा दे तो काम भी उतना सूखा होगा और जो ताज़ा परांठे के साथ चाय पिलाए तो फिर ये उसके मालिस भी कर देतीं हैं चाहे मेहनताना दोनों बराबर ही क्यूँ न दे रहीं हों।
इसी तरह अगर किसी के घर कोई सुख या दुख का मौका है और वह पैसे और खाना ठीक अधिक से न दे तो वह उसके घर की छुट्टी कर लेती हैं, बींमारी या अपने परिवार में मौत का बहाना बनाने में भी नहीं सकुचाती हैं।
इसके लिए मालकिन ही दोषी हैं या दोनों-यह एक अलग विषय है। यहाँ मैं काम वाली की बुराई नहीं कर रही हूँ बल्कि उसके व्यवहार प्रबंधन की बात कर रही हूँ। उन्हे अपने काम और लाभ दोनों को मैनेज करना आता है। भावनात्मक रुप से भी कितनी व्यवहारिक और मशीनी हैं कामवालियाँ! यही तो व्यवहार बड़े सलीके से और चतुराई से बच्चों को मैनेजमेंट की क्लासों में सिखाया जाता है। कैसे लाभ के लिए व्यवहार करो,और कहाँ किससे कैसे अपना काम निकलवाओ।
लाखों रुपया खर्च करके सीखने वाले प्रबंधन के विद्यार्थी अगर इन -कामवाली, रिक्शेवाले और अन्य अति सामान्य लोगों के काम और काम करने के प्रबंधन पर अनुसंधान करें तो मैं निश्चय के साथ कहती हूँ कि अनेक पॉइंट्स सीखने को मिल जाएँगे।
इतने वर्षों तक शोषित और प्रताड़ित होकर काम करने के बाद इन सभी में सिक्ससेंस/प्रत्युत्पन्नमति ज़्यादा डिवेलप हो जाता है। इसी से कहावत बनी है- अक्सपीरियंस मेक्स अ मेन प’फेक्ट।

टैग: , ,

2 Responses to “दर्द में कुछ बात है!”

  1. प्रेमलता पांडे Says:

    dhanyavaad sameer bhai, bahut din baad aae.

  2. sameerlal Says:

    अक्सपीरियंस मेक्स अ मेन प’फेक्ट….जी, बिल्कुल सही कह रही हैं आप!!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: