हाइकू-रामायण

अयोध्या राज।
चक्रवर्ती राजन।
वृद्ध ह्वै जाएं।।

कौशल राज,
सुतविहीन हाय!
भए उदास॥

कीन तपस्या,
मिले ये वरदान,
हो पुत्रवान॥

श्रृंगी बुलाए,
आहुति यज्ञ दिए,
पुत्रकामेष्टि।

बीते नौ मास ,
कौशल्या के गर्भात,
प्रकटे राम।

मात सुमात्रा,
लछमन -शत्रुघ्न,
जनमे साथ॥

जने महान,
कैकई महारानी,
भरतलाल॥

चंचल नैन,
बांकी भृकुटी बैन,
छवि निहाल।।

छन-पैंजनि,
रुम-झुम बाजनि,
चलत-चाल॥

धावत राम,
भजैं पाछे मईया,
मचे ता थै या॥

युगल जोड़ी,
करें क्रीड़ा हो-होड़ी,
खेल-हंसोड़ी॥

गुरु बुलाए,
अवसर मिलाए,
संग पठाए॥

धनुष-बाण,
चौदह-कला ज्ञान,
गुरु की कृपा॥

ज़ारी…

टैग: , , ,

6 Responses to “हाइकू-रामायण”

  1. Sarvesh Kumar Tiwari Says:

    rAma setu par bhI shIghra racheM

  2. Sarvesh Kumar Tiwari Says:

    uttam. sAdhuvAd!

  3. Pramendra Pratap Singh Says:

    बढि़या लिखा है बधाई

  4. प्रेमलता पांडे Says:

    धन्यवाद।

  5. राजीव रंजन प्रसाद Says:

    बहुत अच्छा प्रयोग है, इस रचना की अन्य कडियों की प्रतीक्षा रहेगी।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

  6. समीर लाल Says:

    बहुत उम्दा प्रयोग है..इन्तजार है अगली कड़ी का. बधाई.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: