राहू और केतु (ज्योतिष-१९)

राहू     

ज्योतिष में राहू और केतु को  मान्यता बाद में मिली। ये दोनों प्रकाशहीन छाया ग्रह माने गए हैं। इनके विषय में समुंद्र-मंथन के समय की कथा जगविदित है (शिरस्त्वमरतां नीतमजो ग्रहमचीकॢपत।यस्तु पर्वाणि चंद्राकार्वभिधावति वैरधी॥)  यहाँ वर्णित करने का कोई महत्त्व नहीं है। पुराणों के अनुसार राहू सूर्य से १०,००० योजन नीचे रहकर अंतरिक्ष में भ्रमणशील रहता है। कुण्डली में राहू-केतु परस्पर ६ राशि और १८० अंश की दूरी पर दृष्टिगोचर होते है जो सामान्यतः आमने-सामने की राशियों में स्थित प्रतीत होते हैं। इनकी दैनिक गति ३ कला और ११ विकला है। ज्योतिष के अनुसार १८ वर्ष  ७ माह, १८ दिवस और १५ घटी  यह संपूर्ण राशियों में भ्रमण करने में लेते हैं। राहू विभाजनकर्ता (अणु)   के गुण लिए ग्रह माना गया है। इसे तत्काल फल देने वाला  कहा गया है। इसका प्रतीक रंग भी शनि की भांति काला या नीला है। ज्योतिष में गुणों में तो इसे शनि सदृश माना गया है परंतु फल देने में  इसे ठीक विपरीत तुरंत फल देने वाला कहा गया है। राहू छाया ग्रह होने के कारण जिस ग्रह के साथ बैठता है उसके समान ही फल देने लगता है। सूर्य, चंद्र और मंगल से यह बिलकुल विरोध रखता है, वहीं शुक्र और शनि के साथ मिलकर प्रभावशाली बन जाता  है तथा गुरु और बुध के साथ तटस्थ ।     

केतु     

पौराणिक मान्यताएँ तो इसकी भी राहू के समान ही कही गयी हैं। केतु का शाब्दिक अर्थ है ध्वजा| केतु की दैनिक गति राहू के समान है इसका भ्रमण समय और  दिशा सभी राहू की तरह हैं। केतु मंगल के गुणों के समान गुण लिए हुए माना गया है। यह तुरंत फल देने वाला ग्रह कहा गया है। मंगल की तरह इसका प्रतीक रंग लाल है। अनुकूल  भाव में  और मित्र ग्रह के साथ बैठा केतु यश-कीर्ति भी फैलाने वाला कहा गया है। अचरज की बात यह है कि यह राहू के विपरीत मात्र स्थित ही नहीं होता है, बल्कि उसके विपरीत फल देने वाला भी कहा गया है। राहू जहाँ सुफल देने की स्थिति में होता  है वहाँ केतु बुरे फल दाता माना गया है। गुरु और मंगल के साथ केतु अत्यंत शक्तिशाली कहा  गया  है।   

3 Responses to “राहू और केतु (ज्योतिष-१९)”

  1. laxmikant Says:

    dhanu rasi ka ketu evm mithun rasi ka rahu alg alg bhavo me kya fal dega

  2. sunny Says:

    ketu ka lagna ke second house me kya prabhav rahega . I want guidance in this matter can you halp me ? If requires i can meet perosnally to the astrologer.

    Thanks

    Sunny

  3. mukesh Says:

    kripya ketu ka mangal ke sath 6 house me kya prabhav rahega

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: